स्वामी विवेकानंद - नकारात्मक विचारों को कैसे रोकें| How to remove negative thoughts in hindi



नकारात्मक विचारों को मन में आने से कैसे रोकें| How to remove negative thoughts in hindi


मैं मन में बुरे विचारों को आने से कैसे रोकूँ? मैं नेगेटिव थॉट्स से कैसे छुटकारा पाऊं? स्वामी विवेकानंद कहते हैं कि यह सवाल मुझसे बहुत बार पूछा जा चुका है अगर आपका भी यह सवाल है तो जवाब सुनकर आपका मन हल्का हो जाएगा क्योंकि नेगेटिव विचारों से बाहर निकलना बहुत सरल है। 

बुरे विचारों को कैसे रोकें? अपने मन में अच्छे विचारों के बीज बो दीजिए जब आप बुरे विचारों को रोकने का प्रयास करते हैं तब आप बुरे विचारों पर ही अपना ध्यान केंद्रित कर रहे हैं। जिस कारण उन बुरे विचारों की संख्या और प्रभाव बढ़ जाता है।


स्वामी जी कहते हैं "The stop part is irrelevant"


जब तक आपका फोकस नेगेटिव विचारों पर होगा तब तक वह अपनी जगह से हिलेंगे भी नहीं स्वामी जी कहते हैं कि सच हमेशा सिंपल और आसान होता है इसलिए वह लोगों के सामने होते हुए भी नहीं दिखता नेगेटिव विचारों से बचने के लिए जानबूझकर पॉजिटिव विचारों के बीज बोते रहो इसकी आदत बना लो दिनभर आपके आसपास जो भी हो, व्यक्ति, वस्तु, सबको मन ही मन Appreciate करते रहो। यह सवाल लॉस एंजेलिस की सभा में पूछा गया था स्वामी जी अमेरिकियों से कह रहे हैं-


थैंक्यू अपने आप में अच्छा विचार है जैसे जैसे आप अपने मन के बगीचे में अच्छे विचार लगाते जाएंगे वैसे वैसे दूसरे थके कमजोर विचारों के लिए जगह नहीं बचेगी स्वामी जी आगे कहते हैं कि इसलिए नेगेटिव विचारों की चिंता मत करो अगर आती भी है तो इन्हें निर्बल और निर्जीव मानकर इग्नोर कर दो जैसे हम कमजोर आदमी को इग्नोर कर देते हैं। नेगेटिव विचारों को रिमाइंडर की तरह इस्तेमाल करो और जानबूझकर अच्छे विचार सोचना शुरू कर दो।


स्वामी जी आगे बहुत अच्छी बात कहते हैं 1 दिन में आप जितने अच्छे विचार पैदा कर सकते हैं उतनी ही जल्दी आपका जीवन उन अच्छे विचारों में बदलना शुरू होने लगेगा। अगर आप केवल 1 दिन पूरे दिन हर चीज के लिए हर मौके पर अच्छा सोच सके, उसके लिए धन्यवाद दे सके, तो कल कितना बेहतरीन होगा आप यकीन नहीं कर पाओगे जब आप जानबूझकर भी अच्छे विचारों के बीज बोते हैं तब उसे ब्रह्मांड एक बहुत ही सुंदर बगीचे में बदलना शुरू कर देता है और यह बगीचा आपको अपने जीवन के रूप में दिखने लगता है।


स्वामी जी कहते हैं कि आपके शब्दों और विचारों में महान शक्ति है इनका प्रयोग संभलकर होना चाहिए। मैं कमजोर हूं, मैं लायक नहीं हूं, ऐसे विचार बार-बार सोचने से इंसान खुद को अपमानित करता है और नीचा दिखाता है। स्वामी जी कहते हैं कि जब एनर्जी मांसपेशियों के द्वारा काम के रूप में प्रकट होती है तब हम उसे एक्शन कहते हैं लेकिन फिजिकल एक्शंस से पहले मेंटल एक्शन आते हैं जहाँ अच्छे विचार नहीं हो सकते हैं वहां समर्थ पूर्ण काम नहीं हो सकता। इसलिए जो परेशान और हताश रहते हैं वह कुछ भी सराहनीय काम नहीं कर सकते इसलिए अपने मन को उच्च कोटि के सिद्धांत और विचारों से भरो और हमेशा उनको दिन रात याद करते रहो इन विचारों में से सर्वश्रेष्ठ कर्म और रिजल्ट प्रस्तुत होंगे।


कई लोग सोच बोलते हैं कि जब हम अच्छे विचार सोचते हैं तो हमें लगता है कि हम खुद से झूठ बोल रहे हैं जिसके लिए स्वामी जी कहते हैं अगर हम विचारों को ग्रहण करने को तैयार हैं, अगर आप अपना दिमाग खुला रख सकते हैं, तो इस ब्रह्मांड के सबसे शक्तिशाली विचारों पर आपका उत्तराधिकार है।


➡ अपने काम में discipline कैसे लाएं | Self discipline in hindi


तो इन विचारों को ध्यान में रखते हुए और बिना देरी करते हुए हम अपने अंतर्मन में ओजस्वी और ऊर्जावान विचारों को बढ़ाना शुरू कर देते हैं सबसे पहले केवल अपनी सांस को देखिए, गहरी या हल्की करने की कोशिश मत कीजिए बस खुद को सांस लेते हुए और छोड़ते हुए देखिए अब सांस लेते हुए सीने के बीचो-बीच फोकस कीजिए सांस लेते हुए ध्यान रखिए, सांस छोड़ते हुए ध्यान रखिए, और ऐसे सोचिए कि सारे विचार इसी सेंटर से पैदा हो रहे हैं सारे विचारों को चलने दीजिए आप अपने फोकस को इसी सेंटर पर बनाए रखिए।


इस तरह से मन में सोचना शुरू कीजिए


ब्रह्मांड की शक्ति और बुद्धि के सूर्य मेरे अंदर बसते हैं, मैं जो सोचता हूं जो कल्पना करता हूं वह कर सकता हूं मैं जानता हूं कि इस दुनिया की हर घटना मुझे ताकतवर और सचेत बना रही है यह ब्रह्मांड मेरे टीचर है और मुझे बड़े प्रेम से सिखाते जा रहे हैं, इसलिए जो जानने और सीखने योग्य है वह मेरे अंदर पहले से ही मौजूद है। 


मैं हर तरह से संपूर्ण हूं मेरे अंदर धैर्य और साहस का प्रकाश चमकता है, इसलिए मैं हमेशा मुस्कुराता रहता हूं। मेरा दिल बहुत बड़ा है इसमें सबके लिए प्रेम भरा है अपने शत्रु और मित्रों के लिए भी प्रेम भरा है। मैं सबको प्रेम और सम्मान देता हूं और यही कई गुना वापस पाता हूं जीवन बहुत सुंदर है और इस सफर पर मैं मजे से चलता जा रहा हूं मेरा मन मेरा सेवक है वह मेरी हमेशा बात मानता है इसलिए हमेशा शक्ति और शांति देने वाले विचारों को पैदा करता है।


कुछ महत्वपूर्ण बातें जो हमने सीखी


•●• 1 दिन में आप जितने अच्छे विचार पैदा कर सकते हैं उतनी ही जल्दी आपका जीवन ट्रांसफॉर्म होना शुरू हो जाएगा अगर आप केवल 1 दिन हर चीज के लिए, हर मौके पर, अच्छा सोच सके उसके लिए धन्यवाद दे सके तो कल कितना सौभाग्यशाली होगा यह आप यकीन नहीं कर सकते।


•●• अपने मन को उच्च कोटि के विचारों और सिद्धांतों से भरो और हमेशा उनको दिन रात याद करते रहो इन विचारों से सर्वश्रेष्ठ कर्म और रिजल्ट प्रस्तुत होंगे।


•●• अगर आप इन अच्छे विचारों को ग्रहण करने को तैयार हैं तो हम इस ब्रह्मांड के सबसे शक्तिशाली विचारों पर आपका उत्तराधिकार होगा।


➡ क्रिस्टियानो रोनाल्डो work ethic हिंदी | Ronaldo work ethic in hindi


➡ अपनी असली ताकत समझो | Understand your true strength hindi

Post a Comment

0 Comments