अनिरुद्ध आचार्य के अनमोल वचन, सुविचार | Aniruddha Acharya Quotes In Hindi

अनिरुद्ध आचार्य के अनमोल वचन, सुविचार | Aniruddha Acharya Quotes In Hindi


अनिरुद्ध आचार्य के अनमोल वचन, सुविचार | Aniruddha Acharya Quotes In Hindi

अनिरुद्ध आचार्य के अनमोल वचन, सुविचार | Aniruddha Acharya Quotes In Hindi


1.) आजकल भाई भाई एक-एक इंच जमीन के लिए लड़ते हैं; यह तेरा है, यह मेरा है, और लड़ते-लड़ते ही मर जाते हैं भाई भाई आपस में लड़ लड़ कर मर जाते हैं लेकिन जमीन का कुछ नहीं बिगड़ता वह तो जहां थी वहीं रहती है।


- अनिरुद्ध आचार्य


2.) छोटी छोटी चीज के लिए लड़ने वालों यह याद रखो जब जाओगे कोई चीज साथ नहीं रहेगी लेकिन आपके अच्छे कर्म जरूर आपके साथ जाएंगे।


- अनिरुद्ध आचार्य


3.) यह तो कर्म भूमि है यहां पर सिर्फ कर्म करने आए हैं फल तो जाने के बाद मिलेगा।


- अनिरुद्ध आचार्य


4.) 30 दिन सरकारी कर्मचारी काम करता है और फिर 1 तारीख को उसकी पेमेंट आती है 30 दिन करो और 1 तारीख को मिलेगा। ऐसे ही हमारे कर्म के साथ होता है, जैसे कर्म करोगे उसके अनुसार एक दिन फल मिल ही जाएगा।


- अनिरुद्ध आचार्य


5.) समझदार तो चुप रहता, मूर्ख शोर मचाता, मेरे मालिक की दुकान में सब लोगों का खाता, वह सब का हिसाब किताब बराबर करता है।


- अनिरुद्ध आचार्य


6.) अंबानी अदानी के पास भी दो आंख, दो हाथ, आपके जितना बड़ा ही दिल है। कपड़े भी आपके जैसे ही पहनते हैं। खाते भी आपके जैसे ही हैं जो आप खाते हैं पर फिर भी दोनों में अंतर है लेकिन क्या अंतर है? ईश्वर ने तो कोई अंतर नहीं बनाया सभी एक समान हैं तो क्या अंतर है? अंतर है सिर्फ विचारों का सोच का और अपने नजरिए का।


- अनिरुद्ध आचार्य


7.) भगवान से हमेशा यही प्रार्थना करना चाहिए कि हे नाथ में हमेशा अच्छा सोचूं और सदा अच्छे ही निर्णय लूं।


- अनिरुद्ध आचार्य


8.) आप कोई भी निर्णय लें जल्दबाजी में ना लें निर्णय सोच समझकर ही लें आपका एक गलत निर्णय आपको और आपके परिवार को मुसीबत में डाल सकता है।


- अनिरुद्ध आचार्य


9.) आप गुस्से में किसी को भी कुछ भी बोल देते हैं ऐसा नहीं होना चाहिए थोड़ा खुद पर नियंत्रण रखें कल इसी बात का असर आप पर कितना बुरा हो सकता है इसे भी सोचें।


- अनिरुद्ध आचार्य


10.) बेईमानी सब के लिए हानिकारक है आज हमसे अमेरिका 100 साल आगे हैं हम अमेरिका से 100 साल पीछे हैं इसका कारण क्या है? अमेरिका में बेईमानी है भ्रष्टाचार नहीं होता लेकिन यह हमारे देश में होता है।


- अनिरुद्ध आचार्य


11.) अहंकार की पूंछ को जलाकर भस्म कर दो तब आपके जीवन में शांति होगी।


- अनिरुद्ध आचार्य


12.) मान सम्मान अपमान इन सब से जब तक आप ऊपर नहीं उठते तब तक आपको भगवत प्राप्ति नहीं होगी।


- अनिरुद्ध आचार्य


13.) स्तुति और आलोचना दोनों ही बंधन है ना तो स्तुति में उलझना और ना ही बंधन में उलझना इन दोनों से आपको ऊपर उठना है।


- अनिरुद्ध आचार्य


14.) गरीबों को गरीबी नहीं खाने देती अमीरों को डॉक्टर नहीं खाने देता ईश्वर का संतुलन है कोई तन से दुखी है तो कोई मन से दुखी है कई बड़े-बड़े शहरों में तन के रोगी तो है ही लेकिन मन के रोगी ज्यादा है।


- अनिरुद्ध आचार्य


15.) यदि आज आपने किसी का अपमान किया है तो कल आप भी किसी के द्वारा अपमानित हो जाओगे लेकिन अगर आज आपने किसी को सम्मान दिया है तो कल आप भी सम्मानित हो जाओगे, जो आप दोगे वही पाओगे।


- अनिरुद्ध आचार्य



● स्वामी विवेकानंद जी के 52 प्रेरणादायक विचार


● प्रेरणा देने वाले ब्रम्हाकुमारी शिवानी के 30+ अनमोल विचार


● संदीप माहेश्वरी के 50+ अनमोल विचार


● श्रीमद्भगवद्गीता के प्रसिद्ध अनमोल वचन, उपदेश


● ब्रूस ली के 45 प्रसिद्ध अनमोल विचार



Post a Comment

0 Comments