Will Smith, work ethic और के सफलता की कहानी | Will Smith success story in hindi

Will Smith, work ethic और के सफलता की कहानी | Will Smith success story in hindi


Will Smith, work ethic और के सफलता की कहानी | Will Smith success story in hindi


Will Smith ने अपने करियर की शुरुआत 18 साल में Rapping से की थी उससे पहले वह अपने पिता के बिजनेस में मदद करते थे। वह लोगों के घर जाकर फ्रीज इंस्टॉल करते उसी समय विल स्मिथ ने होशियारी दिखाई जहाँ दूसरे सिंगर के गानों में गालियां, गैंगस्टर और ड्रग्स की बातें होती थी वहीं will smith के गाने साफ-सुथरे और टीनएज की परेशानियों पर बेस्ड होते थे। उनके एल्बम की सफलता की वजह से उन्हें सिटकॉम और टीवी सीरियल्स में काम मिला और जब वहां सफल हुए तो उन्हें बड़े पर्दे पर मौका मिला जहां उन्होंने हर तरह की मूवी में कमाल का काम किया आज विल स्मिथ एक्टर, प्रोड्यूसर और राइटर है।


Will Smith अपने 23 साल के करियर में कभी मेहनत से नहीं हिचके एक के बाद एक नई और कठिन skills सीखते गए, नहीं तो हॉलीवुड जैसी कॉन्पिटिटिव जगह पर जहां हर साल कई नए-नए और प्रतिभावान actor आते हैं वहां सालों तक A-lister बने रहना कोई आसान बात नहीं है वहीं दूसरी तरफ विल स्मिथ गहरी सोच वाले इंसान हैं उनकी आकर्षित करने वाली बात यह है कि उनमें सीखने और करने यानी thought और action का गजब का कॉन्बिनेशन है।


दोस्तों work ethic का मतलब टाइम टेबल या रूटीन नहीं है और work ethic हार्ड वर्क भी नहीं है work का मतलब है शारीरिक या मानसिक एक्टिविटी जो हमें लक्ष्य तक पहुंचाती है। ethics का मतलब वह मोरल प्रिंसिपल जो इंसान को सही गलत में अंतर बताते हैं यह प्रिंसिपल कुछ भी हो सकते हैं जैसे - जब भी मौका मिले शॉर्टकट लेने में कोई कोई प्रॉब्लम नहीं है, थोड़ा लेट हो गए तो चलता है काम होना चाहिए, छोटे-मोटे झूठ से फर्क नहीं पड़ता या फिर जो भी करना है अधूरा नहीं छोड़ना मेहनत करने से सीखने को मिलता है दिमाग लगाने से तेज होता है।


Work ethic का मतलब काम करने का वह सही तरीका है जो हमें अपने goal तक पहुंचाता है तो आप यह कह सकते हो कि भाई मेरे काम करने का यह स्टैंडर्ड है, यह तरीका है, इसे मैं कभी नहीं गिरने दूंगा बल्कि जब भी हो सकेगा तो मैं इसे ऊपर ही ले जाऊंगा। हर किसी का work ethic उसके काम में झलकता है आप देखोगे कि कई लोग बिना अपने काम में लेट हुए नहीं मानते, कई लोगों को एक एक चीज के लिए बहुत टोकना पड़ता है और कई लोग अपने आप ही काम ढूंढ लेते हैं इसका मतलब है कि अगर हम अपने work ethic को पावरफुल बना लें तो फिर पावरफुल जिंदगी जीने में दिक्कत नहीं आएगी।

अब सवाल बड़ा सिंपल है कि यह वर्क एथिक्स शुरू कहां से होता है?


यह सिद्धांत बनते हैं हमारे सेल्फ बिलीफ से जैसा हम अपने बारे में सोचते हैं कि हमारे अंदर यह काबिलियत है, हम यह कर सकते हैं वैसे ही हमारे एथिक्स भी बनने लगते हैं और विल स्मिथ इसका प्राइम एग्जांपल है उनकी बातों से सेल्फ बिलीफ के या आत्मविश्वास के अलग-अलग पावरफुल पहलू दिखते हैं जिससे उनका वर्क एथिक सामने आता है।


दोस्तों अभी तक हमने जो भी पढ़ा उसे हम एक लाइन में कह सकते हैं की सेल्फ बिलीफ से बनते हैं एथिक्स जो आपके काम या हरकतों में दिखते हैं और यही आपको आपके लक्ष्य तक ले जाते हैं हम विल स्मिथ के टैलेंट तो कॉपी नहीं कर सकते लेकिन हम उनका सेल्फ बिलीफ और वर्क एथिक्स अपना सकते हैं।


विल स्मिथ का सबसे पावरफुल बिलीफ़ है I will not be outworked विल स्मिथ कहते हैं की मैं ट्रेडमिल पर मरने को तैयार हूं। आप मुझसे ज्यादा टैलेंटेड हो या स्मार्ट या ताकतवर हो I will not be outworked अगर आप मेरे साथ ट्रेडमिल पर चढ़ते हो या तो पहले आप ट्रेडमिल से उतर जाओगे या फिर मैं मर जाऊंगा मैं अपने सपनों के लिए अपनी जान निकलने तक काम कर सकता हूं इसमें कोई कंफ्यूजन का सवाल ही नहीं है यह सबसे बेसिक कंसेप्ट है कि अगर मुझे किसी प्रोजेक्ट को पूरा करना है तो मैं उसे पूरा करूंगा या फिर कोशिश करते करते खत्म हो जाऊंगा।


लोग अक्सर बिजनेस और लाइफ में crucial मौके miss कर देते हैं क्योंकि वह सैक्रिफाइस करने के लिए तैयार नहीं होते दोस्तों जिसके अंदर यह कॉन्सेप्ट क्लियर होगा या बिलीफ़ पक्का होगा की जितनी मेहनत की जरूरत होगी मैं उतना मेंटल या फिजिकल effort तो लगा जाऊंगा तो सोचो ऐसे आदमी को कौन रोक सकता है।


दूसरा बिलीफ जो will को drive करता है


वह है Hard work ओर Dedication टैलेंट से बहुत बड़े हैं। विल स्मिथ कहते हैं जब मैं 9 साल का था तब हमारा परिवार खासकर दादी चर्च जाते थे। दादी चर्च के लिए बहुत काम करती थी। एक बार easter के मौके पर मैंने चर्च में पियानो पर beethovin का fur elise बजाया उस समय मैंने दादी को मुझे बैकस्टेज से झांकते हुए देखा मेरे अच्छे काम से उनकी आंखें खुशी और गौरव से नम हो गई। वो आंखें और मुस्कुराहट में कभी नहीं भूल सकता आज जब भी मैं थकता हूं तो वह आंखें मुझे दोबारा याद आ जाती है और में फिर से शुरू हो जाता हूं दादी की मुस्कुराहट मेरे लिए लाइफ फोर्स है।


➡ अर्नाल्ड श्वाजनेगर Work ethic इन हिंदी


विल स्मिथ कहते हैं कि मैंने पियानो बजाना बड़ी मेहनत से सीखा था उस दिन मैंने जाना कि कुछ भी अच्छा हासिल करने का कोई शॉर्टकट नहीं होता टैलेंट आपको बहुत दूर तक नहीं ले जाता अगर आपके पास skill नहीं हैं तो टैलेंट के भरोसे आप फेल हो जाओगे talent × effort = skill और skill × effort = achievement 


विल स्मिथ कहते हैं कि एक कलाकार के तौर पर मैं हर दिन अपने आप को बेहतर करने के लिए dedicated हूँ मैं हर दिन पढ़ता हूं और सीखता हूं अगर मैं ऐसा नहीं करूंगा तो मैं अपनी कला से बात दूसरों तक नहीं पहुंचा पाऊंगा।


अगला विल स्मिथ का बिलीफ़ जो हम सब को अपनाना चाहिए कि छोटी-छोटी हरकतों से बड़े काम हो जाते हैं। विल स्मिथ कहते हैं कि मेरे पेरेंट्स ने मुझे सिखाया था कि कभी दीवार बनाने की कोशिश नहीं करनी चाहिए हम लोग कभी भी सबसे बड़ी सबसे शानदार दीवार बनाने की कोशिश नहीं कर रहे थे। हम लोग कभी भी वहां से शुरू नहीं करते। आप कहते हैं कि अगले 10 मिनट में अच्छे से अच्छे तरीके से मैं 1 ईंट दीवार पर लगा लूंगा जितनी अच्छी तरीके से इस दुनिया में कोई ईंट लगाई जा सकती है मैं उस तरह से ईंट लगा लूंगा और हमेशा हर दिन करते रहेंगे तो दीवार अपने आप बन कर खड़ी हो जाएगी और इसका साइकोलॉजिकल एडवांटेज यह होता है कि बाकी लोग बड़े सपने देख कर डर जाते हैं लेकिन वह सपना ना मेरे लिए बड़ा होता ना असंभव मुझे तो बस हर 10 मिनट में 1 ईंट लगानी है वह भी सबसे बेहतर तरीके से।


अगली बात जिस पर विल स्मिथ विश्वास करते हैं कि बिना फोकस के कुछ भी शानदार नहीं हो सकता। वह कहते हैं कि जिस लेवल की में सक्सेस पाना चाहता हूं उसके लिए मैं अपना ध्यान बटाना नहीं चाहता मैंने डिसाइड किया है कि मैं कुछ चीजों में वर्ल्डक्लास होना चाहता हूं मुझे याद है कि जब मैंने पहली बार स्टार वॉर्स मूवी देखी थी तो थिएटर में मैं मुंह खोले सीट बैठा था अगर उसी तरह मुझे लोगों को छूना है तो मुझे अपनी क्रिएटिविटी और एनर्जी को एक जगह झोंकना होगा बिना अच्छी तरह फोकस किए वर्ल्ड क्लास परफॉर्मेंस नहीं दी जा सकती।


 क्रिस्टियानो रोनाल्डो work ethic हिंदी


विल स्मिथ कहते हैं कि हर अच्छे काम में और खुद को लगातार बेहतर बनाने में बहुत धैर्य लगता है विल स्मिथ कहते हैं कि मैं जो भी करता हूं उसका सेंट्रल कॉन्सेप्ट है कि मैं अपने काम के जरिए सबकी जिंदगी बेहतर करना चाहता हूं और फिर मुझे यह समझ आया कि यह सब करने के लिए मुझे खुद को लगातार बेहतर करना होगा। विल स्मिथ कहते हैं कि एक फिल्म की तैयारी करते करते मैंने भगवान बुद्ध का इंटरेस्टिंग quote पढ़ा “काबिल और अच्छे इंसानों को हर दिन चम्मच से समुद्र को खाली करने की कोशिश करना पड़ता है” 


विल स्मिथ कहते हैं कि अच्छे काम में खुद को लगातार बेहतर करने में बहुत समय लगता है इसीलिए पूरे विश्वास के साथ लगे रहना चाहिए। 


दोस्तों जिनके अंदर पावरफुल बिलीफ सिस्टम है उन को कौन रोक सकता है हम भी इन सिद्धांतों को छोटी-छोटी हर कदम मिलाकर कॉपी कर सकते हैं, अपना सकते हैं और अपना स्ट्रांग वर्क एथिक बना सकते हैं।


➡ लियोनेल मेसी work ethic हिंदी


➡ ज़िंदगी मे विफलताओं से कैसे निपटें


 एक चैम्पियन की तरह कैसे सोचें

Post a Comment

0 Comments