लिओनार्दो दा विंची के बारे में रोचक जानकारी | Fact about Leonardo da Vinci in hindi



लिओनार्दो दा विंची के बारे में रोचक जानकारी | Fact about Leonardo da Vinci in hindi


एक इंसान ज्यादा से ज्यादा कितनी चीजों में मास्टर हो सकता है 2? 3? 6? आज आप ऐसे इंसान के बारे में जानेंगे जिसको इतने विषयों में मास्टरी हासिल थी जितने कि किसी स्कूल और कॉलेजेस में भी नहीं पढ़ाया जाता है।


लिओनार्दो दा विंची कौन थे?


लिओनार्दो दा विंची इटली के एक एक साइंटिस्ट, मैथमेटिशियन, पेंटर, आर्किटेक्ट, स्कल्पटर, इन्वेंटर, इंजीनियर, राइटर, हारमोनिस्ट और एक स्किल्ड मैकेनिस्ट थे। इसके अलावा भी उनको एस्ट्रोलॉजी, जूलॉजी, ऑटोनॉमी, बॉटनी और हिस्ट्री का बहुत ज्ञान था। लिओनार्दो दा विंची को इस दुनिया में सबसे ग्रेटेस्ट लोगों में से एक माना जाता है। आज आप लिओनार्दो दा विंची के बारे में 19 बातें जानेंगे, जो आपने पहले कभी नही सुनी होंगी।


●•● लिओनार्दो दा विंची Ambidextrous थे वह दोनों हाथों से लिख सकते थे लेकिन हैरानी की बात यह है कि वह एक ही टाइम में एक हाथ से लिखते थे और साथ ही साथ दूसरे हाथ से ड्राइंग कर सकते थे।


●•● लिओनार्दो दा विंची बड़े ही आसानी से अक्षरों को उल्टे क्रम में लिख सकते थे जिसे mirror राइटिंग कहा जाता है अगर किसी को दा विंची का लिखा हुआ पढ़ना था तो उसे चाहिए था कि उनका लिखा हुआ वह शीशे के सामने ले आए और तब वह उन्हें आसानी से पढ़ सकता था। कहा जाता था कि इस तरह से दा विंची उन्हीं बातों को लिखते थे जिन्हें वह राज रखना चाहते थे। लेकिन कुछ लोग कहते हैं कि यह एक मिथ है कि वह राज की बातों को छुपाने के लिए उल्टा लिखते थे क्योंकि दा विंची का लिखा हुआ ज्यादातर mirror राइटिंग में ही मिलता है क्योंकि उनके लिए इस तरह से उल्टा लिखना बेहद आसान था।


●•●1994 में बिल गेट्स ने लिओनार्दो दा विंची की बुक Codex hammer को 30 मिलियन यूएस डॉलर में खरीदा था। यह बुक द विंची की साइंटिफिक राइटिंग का कलेक्शन है इसे भी दा विंची ने mirror राइटिंग में लिखा है बिल गेट्स ने इस बुक के कुछ पेज को विंडोज 95 के स्क्रीन सेवर के रूप में भी इस्तेमाल किया था। 3 साल बाद उन्होंने इस हिस्टोरिकल डायरी का डिजिटल वर्जन पूरी दुनिया के लिए रिलीज कर दिया था।


●•● कहा जाता है कि दा विंची हुमन एनाटॉमी को स्टडी करने के लिए रात में कब्रिस्तान जाकर कब्र खोदकर शव को निकाल लाते थे और फिर उसको स्टडी करते थे यह कहा जाता है कि उन्होंने करीब 30 शवों को निकाल लिया था।




●•● यह दा विंची के द्वारा इंसानों के हाथों के बनाए गए चित्र है आज से 500 साल पहले द विंची ने इंसान के अंदरूनी पार्ट्स के बिल्कुल स्पष्ट चित्र बना दिए थे।


●•● लिओनार्दो दा विंची की दो पेंटिंग्स(चित्र) काफी फेमस है मोनालिसा को तो आप सभी जानते ही होंगे दूसरी फेमस पेंटिंग है The last supper (अंतिम भोज चित्र) में लिओनार्दो दा विंची ने जीसस को सूली चढ़ाने से पहले अंतिम भोजन करते हुए दिखाया है।


The last supper painting


●•● The last supper पेंटिंग में एक छोटी सी मिस्टेक है, गौर से देखने पर पता चलता है कि खाने में Eel के साथ Orange slice है लेकिन जीसस को सूली दिए जाने के कई सालों बाद तक मिडिल ईस्ट में संतरे नहीं आए थे फिर जो चीज जीसस के टाइम में थी ही नहीं उसे भला वह कैसे खा सकते हैं?

दरअसल 16वीं शताब्दी में मतलब दा विंची के समय में Eel के साथ orange slice खाना इटली में एक बेहद कॉमन डिश थी और इसीलिए पेंटिंग में भी दा विंची ने इसे बना दिया था।


●•● यकीन करना मुश्किल है दा विंची ने 16वीं शताब्दी में ही कई बड़े आविष्कार कर लिए थे उन्हें पैराशूट, हेलीकॉप्टर, एयरोप्लेन और और टैंक जैसी इंवेंशंस के लिए क्रेडिट दिया जा चुका है उन्होंने सोलवीं सदी में ही इन सब चीजों के डिजाइंस तैयार कर लिए थे।


➡ मोनालिसा पेंटिंग का रहस्य


●•● हम लिओनार्दो दा विंची को एक परफेक्शनिस्ट के तौर पर जानते हैं लेकिन वह एक प्रोक्रेस्टीनेटर थे वह अपने काम में टालमटोल करते थे यही वजह है कि उनकी बहुत सी पेंटिंग्स राइटिंग और इंवेंशंस अधूरे हैं जिनको वह पूरा नहीं कर पाए दा विंची के बाद बनाए गए उनके डिजाइंस पर कई इंवेंशंस किए गए।


●•● लिओनार्दो दा विंची और निकोलो मेकियावेली जो कि दा विंची के समय में ही एक इटालियन फिलोसोफर थे एक बार इन दोनों ने मिलकर प्लान बनाया कि इटली के पीसा शहर में रहने वाली आरनो नदी की दिशा यानी उसका बहाव बदलेंगे, दोनों ने काफी कोशिश भी की लेकिन नाकाम रहे।


●•● Arno Valley नाम की यह ड्रॉइंग दविंची की सबसे पहली ड्रॉइंग है इसे उन्होंने 1473 में बनाया था।


●•● दा विंची कभी स्कूल नहीं गए सिर्फ लिखने और पढ़ने के अलावा उन्हें किसी भी प्रकार की कोई फॉर्मल एजुकेशन नहीं मिली हालांकि उनके पिता उनके आर्टिस्टिक टैलेंट से वाकिफ थे इसीलिए उन्होंने दा विंची को इटली के एक पेंटर Andrea del verrocchino के पास पेंटिंग सीखने के लिए भेजा इसके अलावा उनके पास जितने भी विषयों का ज्ञान था वह दा विंची ने खुद हासिल किया था।


➡ सर निकोला टेस्ला के बारे में रोचक जानकारी


●•● दा विंची आज से 500 साल पहले हुए हैं लेकिन वह अपने समय से काफी आगे थे उस जमाने में भी उन्होंने जानवरों पर होने वाली क्रूरता को रोकने के प्रयास किए जानवरों के बारे में अपने प्यार के बारे में उन्होंने लिखा है।

“अगर इंसान आजादी चाहता है, तो पशु पक्षियों को पिंजरे में क्यों रखता है.? सच इंसान क्रूरता में सबसे आगे हैं हम दूसरों की मृत्यु पर जीते हैं”


●•● दा विंची पिंजरे में बंद पक्षियों को सिर्फ इसलिए खरीद लेते थे ताकि उन्हें आजाद कर सकें।


●•● 13वीं से 16वीं सदी में यूरोप में जो पुनर्जागरण काल चला था उसी युग में दा विंची उस पहले सेलिब्रिटीज में से थे जिन्होंने शाकाहार को सपोर्ट किया था।


➡ ओशो के बारे में तथ्य


●•● दा विंची वह पहले इंसान थे जिन्होंने बताया था कि आकाश का रंग नीला क्यों होता है? उन्होंने बताया कि ऐसा इसलिए क्योंकि हवा, सूरज से आने वाली रोशनी को बिखेर देती है और नीला रंग बाकी रंगों के कंपेयर में ज्यादा फैलता है यही वजह है कि हमें दिन में आकाश नीला दिखाई देता है।


●•● कांटेक्ट लेंस का आइडिया सबसे पहले लिओनार्दो दा विंची को ही आया था।


●•● दा विंची को जो भी बात जानने को मिलती उसे वह तुरंत  लिख लेते थे वह इटली के गांव-गांव घूमकर और उसकी सुंदरता को अपनी सुंदर पेंटिंग में उतारते थे। अगर वह किसी इंसान के चेहरे का चित्र बनाना चाहते थे तो पूरा दिन उस एक पीछे घूमते रहते थे जिससे कि उन्हें उस इंसान का चेहरा अच्छे से याद हो जाए फिर घर जाकर ऐसे चित्र बनाते थे मानो वह व्यक्ति उनके सामने ही बैठा है। वह कहते थे किसी भी चित्रकार को एक आईने जैसा होना चाहिए उसे अपने सामने की चीजों को हूबहू बनाना आना चाहिए।


➡ अडोल्फ हिटलर के बारे में रोचक तथ्य


●•● दा विंची उनका सरनेम नहीं है बल्कि विंची इटली का एक शहर है और लियोनार्दो इसी शहर में जन्मे थे da Vinci का मतलब होता है of vinci यानी जो विंची शहर का हो।


●•● लिओनार्दो दा विंची के आखिरी शब्द थे मैंने भगवान और इंसानियत को नाराज किया है मैं अपनी जिंदगी का जितना सदुपयोग कर सकता था उतना नहीं कर पाया।


➡ सिकंदर महान से जुड़े तथ्य


➡ न्यूटन के बारे में जानकारी और ज़िंदगी से जुड़े तथ्य

Post a Comment

0 Comments