जॉन लॉक के 31 अनमोल विचार | John Locke Quotes In Hindi

जॉन लॉक के 31 अनमोल विचार | John Locke Quotes In Hindi


जॉन लॉक के 31 अनमोल विचार | John Locke Quotes In Hindi

जॉन लॉक के 31 अनमोल विचार | John Locke Quotes In Hindi


1.) जैसी सोच, वैसे विचार। यानी आप जैसा सोचेंगे वैसे ही विचार आपको आएंगे।


- जॉन लॉक


2.) पैसा कमाने के लिए कई विकल्प हो सकते है, लेकिन जन्नत में जाने के लिए सिर्फ एक है "अच्छे कर्म करना"।


- जॉन लॉक


3.) यहां किसी भी व्यक्ति का ज्ञान उसके अनुभव से आगे नहीं जा सकता।


- जॉन लॉक


4.) किसी भी शिक्षक के लिए कमांड या नियंत्रण करना, पढ़ाने से ज्यादा जरूरी होता है।


- जॉन लॉक


5.) बगावत करना और आवाज उठाना हर व्यक्ति का अधिकार है।


- जॉन लॉक


6.) हमारी इनकम हमारे जूते की तरह है; यदि बहुत छोटे हैं, तो वे हमें चोट पहुंचाते हैं; परन्तु यदि वे बहुत बड़े हैं, तो वे हमें ठोकर खिलाते हैं, और ठोकर मारते हैं।


- जॉन लॉक


7.) कानून बनाने का मतलब किसी चीज को जड़ से खत्म करना नहीं होता है। इसका मतलब आजादी के दायरे को फैलाना और इसे महफूज रखने से है।


- जॉन लॉक


8.) आप जिन चीजो की चिंता करते है, उनमे मास्टरी प्राप्त करते है।


- जॉन लॉक


9.) जो व्यक्ति बार-बार में अपशब्दों का इस्तेमाल करता है, या तो कोई उसे समझ नहीं पाता है या उसकी बातों से किसी को कोई फर्क नहीं पड़ता है।


- जॉन लॉक


10.) सारी संपत्ति श्रम का उत्पाद है।


- जॉन लॉक


11.) सिर्फ जानकारियों के आधार पर खुद को इस दुनिया में महफूज रख सकते है।


- जॉन लॉक


12.) आदमी के बातों की तुलना में एक बच्चे के अप्रत्याशित प्रश्नों से अक्सर अधिक सीखा जा सकता है।


- जॉन लॉक


13.) नई राय और सोच पर हमेशा संदेह किया जाता है, और आमतौर पर बिना किसी अन्य कारण के विरोध किया जाता है, केवल इसलिए क्योंकि वे पहले से ही सामान्य नहीं हैं।


- जॉन लॉक


14.) जो व्यक्ति जैसा काम करता है, उसी से उनके विचारो का पता चलता है। क्योंकि जैसा आप सोचेंगे, वैसा ही काम करेंगे।


- जॉन लॉक


15.) अपने पड़ोसी को अपने समान प्यार करना मानव समाज को विनियमित करने के लिए एक ऐसा सत्य है, कि केवल उसी के द्वारा सामाजिक नैतिकता के सभी मामलों को निर्धारित किया जा सकता है।


- जॉन लॉक


16.) हम गिरगिट की तरह हैं, हम अपने रंग और अपने नैतिक चरित्र का रंग अपने आसपास के लोगों से लेते हैं।


- जॉन लॉक


17.) समझ में सुधार के लिए दो छोरों पर काम करना चाहिए: पहला, ज्ञान की हमारी अपनी वृद्धि; दूसरा, हमें उस ज्ञान को दूसरों तक पहुँचाने में सक्षम बनाने के लिए।


- जॉन लॉक


18.) पढ़ते रहने से दिमाग को जानकारी बढ़ाने के लिए सामग्री मिलती है। लेकिन जो पढ़ा है उसके बारे में सोचने से ही उन जानकारियो को अपनाया जा सकता है।


- जॉन लॉक


19.) हर व्यक्ति को गलती करने का अधिकार है। लेकिन कुछ लोगो को गलतियां करने का शौक होता है। उन्हें बार-बार गलती करने का जुनून या रूझान भी हो सकता है।


- जॉन लॉक


20.) हम दुनिया में मौजूद हर चीज सीखने नहीं आये है। लेकिन उन चीजो की जानकारी होना जरूरी है जिनसे हमारे चरित्र और व्यवहार का निर्माण होगा।


- जॉन लॉक


21.) हर आदमी कहता है मै अच्छा हू लेकिन लोग क्या मानते है यह ज्यादा महत्वपूर्ण बात है।


- जॉन लॉक


22.) शिक्षा सज्जन से शुरू होती है, लेकिन पढ़ना, अच्छी संगति और प्रतिबिंब पर खत्म होना चाहिए।


- जॉन लॉक


23.) जहां हर चीज सपने की तरह होती है वहां सवाल-जवाब या बहस का कोई मतलब नहीं होता। सच्चाई और जानकारियां भी कोई भूमिका नहीं निभाते है।


- जॉन लॉक


24.) एक उत्कृष्ट व्यक्ति, कीमती धातु की तरह होता है वह हर तरह से अपरिवर्तनीय है; जबकि एक खलनायक, संतुलन के बीम की तरह होता है, जो हमेशा ऊपर और नीचे बदलता रहता है।


- जॉन लॉक


25.) नए विचारो को हमेशा शक की नजर से देखा जा सकता है। उनकी आलोचना भी होती है। कोई उसे अपनाना पसंद नहीं करता है। इसका कोई खास कारण नहीं। कारण इतना है की ये विचार बिलकुल कॉमन नहीं होते है।


- जॉन लॉक


26.) हम अपने जीवन में जिन चीजो की ख्वाहिश रखते है उसी से हमारे चरित्र के बारे में पता लगाया जा सकता है।


- जॉन लॉक


27.) जहां संपत्ति नहीं है वहां अन्याय नहीं है।


- जॉन लॉक


28.) सभी मानव जाति ... सभी समान स्वतंत्र होने के कारण, किसी को भी अपने जीवन, स्वास्थ्य, स्वतंत्रता या संपत्ति में दूसरे को नुकसान नहीं पहुंचाना चाहिए।


- जॉन लॉक


29.) इच्छा का अनुशासन चरित्र की पृष्ठभूमि है।


- जॉन लॉक


30.) हम जितना भी पैसा कमाते है उसकी तुलना जूतो से की जा सकती है। जूता छोटा है तो वो पैरों को काटने लगेगा। जूते का आकार बड़ा है तो लड़खड़ाकर गिर भी सकते है।


- जॉन लॉक


31.) नाविक के लिए अपनी रेखा की लंबाई जानना बहुत उपयोगी है, हालांकि वह इसके साथ समुद्र की सभी गहराई को नहीं समझ सकता।


- जॉन लॉक









Post a Comment

0 Comments