25 आयुर्वेद पर अनमोल कथन, विचार | Ayurveda Quotes In Hindi

25 आयुर्वेद पर अनमोल कथन, विचार | Ayurveda Quotes In Hindi


आयुर्वेद पर अनमोल कथन, विचार | Ayurveda Quotes In Hindi

आयुर्वेद पर अनमोल कथन, विचार | Ayurveda Quotes In Hindi


1.) आयुर्वेद योग की सिस्टर फिलॉसफी है। ये जीवन या दीर्घायु होने का विज्ञान है और ये हमें प्रकृति की शक्तियों, चक्र और तत्वों के बारे में भी सिखाता है।


- क्रिस्टी टरलिंग्टन


2.) आयुर्वेद में सिद्धांत है कि कुछ भी भोजन, दवा, या ज़हर हो सकता है, निर्भर करता है कि कौन खा रहा है, क्या खा रहा है, और कितना खा रहा है। इस सन्दर्भ में एक प्रचलित कहावत है: “एक आदमी का खाना दूसरे आदमी का ज़हर है।”


- सेबेस्टियन पोल


3.) आयुर्वेद हमें “जैसा है” वैसे प्यार करना सिखाता है- ना कि जैसा हम सोचते हैं लोग “होने चाहिएं।”


- लीजा कॉफे


4.) आयुर्वेद के बारे में एक बहुत अच्छी बात ये है कि इसके उपचार से हमेशा साइड बेनिफिट्स होते हैं, साइड इफेक्ट्स नहीं।


आयुर्वेद पर अनमोल कथन, विचार | Ayurveda Quotes In Hindi


- शुभ्रा कृष्ण


5.) कोई भी दवा अन-हेल्दी लिविंग की क्षतिपूर्ति नहीं कर सकती है।


- रेणु चौधरी


6.) जब आहार गलत हो, दवा किसी काम की नहीं है; जब आहार सही हो, दवा की कोई ज़रुरत नहीं है।


आयुर्वेद पर अनमोल कथन, विचार | Ayurveda Quotes In Hindi



- आयुर्वेदिक कहावत


7.) सामान्यतया, आयुर्वेद चावल, गेहूं, जौ, मूंग दाल, शतावरी, अंगूर, अनार, अदरक, घी (मक्खन), क्रीम दूध और शहद  को सबसे अधिक लाभकारी खाद्य पदार्थ मानता है।


- सेबेस्टियन पोल


8.) अपने परमानन्द का अनुसरण करना और खुशबु, रंग,एवं स्वाद के रहस्य में गोता लगाना; प्रकृति माँ की शानदार विविधता में खो जाना, और भीतरी चिन्हों का अनुगमन करके जानना कि हम सचमुच कौन हैं –  यही आयुर्वेदिक पाकशास्त्र का विज्ञान है।

 

- प्राण गोगिया


9.) क्योंकि हम अपने अंदरुनी शरीर को स्क्रब नहीं कर सकते हमें अपने ऊतकों, अंगों, और मन को शुद्ध करने कुछ उपाय सीखने होंगे। ये आयुर्वेद की कला है।


आयुर्वेद पर अनमोल कथन, विचार | Ayurveda Quotes In Hindi


- सेबस्टियन पोल


10.) अच्छे स्वास्थ्य के लिए जो आयुर्वेदिक मार्ग है उसमे दो सरल कदम शामिल हैं:


कम करना;

अधिक होना। “


- शुभ्रा कृष्ण


11.) आयुर्वेद हमें हमारी सहज-प्रकृति को संजोना सिखाता है- “हम जो हैं उससे प्रेम करना, उसका  सम्मान करना”, वैसे नही जैसा लोग सोचते हैं या कहते हैं, “हमे क्या होना चाहिए। “


- प्राण गोगिया


12.) आयुर्वेद जैसा कि नाम में निहित है (‘आयु’: “जीवन” और ‘वेद’: “ज्ञान”) स्वस्थ्य रहने का ज्ञान है और सिर्फ बीमारी के इलाज तक सिमित नहीं है।


- शरदिनी, उर्मिला


13.) समय बदल रहा है और न सिर्फ भारत के नीति निर्माता, बल्कि पूरी दुनिया आयुर्वेद के महत्व को समझ रही है। कुछ साल पहले कौन सोच सकता था कि महानगरीय संस्कृति में पले-बढे लोग निकट भविष्य में कार्बोनेटेड शीतल पेय से अधिक लौकी का रस या करौंदे का रस पसंद करेंगे।


- आचार्य बालकृष्ण   


14.) योग का विज्ञान और आयुर्वेद; चिकित्सा विज्ञान की तुलना में सूक्ष्म हैं, क्योंकि अकसर चिकित्सा विज्ञान सांख्यिकीय गड़बड़ी का शिकार हो जाता है।”

 

- अमित रे 



15.) आयुर्वेद का यही लक्ष्य है कि स्वस्थ व्यक्ति के स्वास्थ्य को बरकरार रखा जाए और बीमार व्यक्ति को ठीक कर दिया जाए।


16.) आयुर्वेद केवल कुछ दवाएं या कुछ शास्त्र नहीं हैं, बल्कि एक समग्र समग्र जीवन शैली है जो योग, ध्यान, भोजन की आदतों और स्वदेशी सामाजिक संस्कृतियों से गहराई से जुड़ी हुई है।


17.) एक आयुर्वेदिक शिक्षार्थी के रूप में, मेरा मानना ​​है कि कैंसर जैसी बीमारियों का प्रचलन आज अधिक बढ़ रहा है क्योंकि हम एक समाज के रूप में अपने दैनिक जीवन की परिस्थितियों के प्रति गलत रवैया अपना रहे हैं।


18.) शांत रहो और आसक्ति और घृणा की जड़ों को जीतो। अर्थात जुड़ाव की असल जड़ों को पहचानों।


19.) हमारा कल्याण हमारे व्यवहार, जीवन शैली और मन की स्थिति पर निर्भर करता है। आयुर्वेद और योग हमें हमारे शारीरिक, मानसिक और शारीरिक कल्याण को मजबूत करके हमारे जीवन में कल्याण की हमारी पूरी क्षमता को प्रकट करने के लिए मार्गदर्शन करते हैं।


20.) वैदिक ज्ञान एक आधुनिक पुनर्जागरण ला रहा है जो पहले ही शुरू हो चुका है।

प्राचीन आयुर्वेदिक चिकित्सा वास्तव में अति आधुनिक, अत्याधुनिक एकीकृत क्षेत्र आधारित औषधि है


21.) जीवन (आयु) शरीर, इंद्रियों, मन और पुनर्जन्म आत्मा का संयोजन (संयोग) है। आयुर्वेद जीवन का सबसे पवित्र विज्ञान है, जो इस दुनिया में और दुनिया के बाहर इंसानों के लिए फायदेमंद है।


22.) भोजन, नींद और ब्रह्मचर्य से संबंधित स्वस्थ आदतें किसी के जीवन की पूरी अवधि के लिए अच्छे रंग, विकास और पूर्ण स्वास्थ्य की ओर ले जाती हैं।    


23.) योग और आयुर्वेद का विज्ञान चिकित्सा विज्ञान की तुलना में सूक्ष्म है, क्योंकि चिकित्सा विज्ञान अक्सर सांख्यिकीय हेरफेर का शिकार होता है।


24.) ध्यान हमारे बढ़ने के इरादे का प्रतीक और अभिव्यक्ति दोनों है। अपने विचारों और भावनाओं के साथ अकेले बैठे हुए, हम छूटे हुए अवसरों, गुजर रही इच्छाओं, याद की गई निराशाओं के साथ-साथ अपनी आंतरिक शक्ति, व्यक्तिगत ज्ञान और क्षमा करने और प्यार करने की क्षमता का सम्मान कर सकते हैं।


25.) वास्तव में एलोपैथिक चिकित्सा को वैकल्पिक चिकित्सा कहा जाना चाहिए। जैसा कि आयुर्वेद अधिक समग्र, सिद्ध, समय परीक्षण, कम दुष्प्रभाव, और एलोपैथी से पुराना है।

Post a Comment

0 Comments