कमलप्रीत कौर का जीवन परिचय | kamalpreet kaur biography in hindi

कमलप्रीत कौर का जीवन परिचय | kamalpreet kaur biography in hindi


कमलप्रीत कौर का जीवन परिचय | kamalpreet kaur biography in hindi


कौन है कमलप्रीत कौर


कमलप्रीत कौर एक डिस्कस थ्रोअर (Discus Throw) महिला खिलाड़ी है। टोक्यो ओलिंपिक में कमलप्रीत ने 65.06 मी . के प्रयास से डिस्कस थ्रो में नया कीर्तिमान स्थापित किया है। उन्होंने अपने बेहतरीन प्रदर्शन से सभी को चौका दिया है ऐसा करने वाली कमलप्रीत पहली भारतीय खिलाडी है।


कमलप्रीत कौर का जीवन परिचय | kamalpreet kaur biography in hindi


नाम (Name) - कमलप्रीत कौर


जन्म (Birth) - 4 मार्च 1996


उम्र (Age) - 25 साल (साल 2021 में )


जन्म स्थान (Birth Place) - गांव बादल ,श्री मुक्तसर साहिब जिला,पंजाब


गृहनगर (Hometown) - गांव बादल ,श्री मुक्तसर साहिब जिला,पंजाब


शिक्षा (Education) - 12वीं कक्षा पास


स्कूल/कॉलेज ( School /College) दशमेश गर्ल्स सीनियर सेकेंडरी स्कूल


राष्ट्रीयता (Nationality) - भारतीय


धर्म (Religion) - सिख


कद (Height) - 6 फीट 1 इंच


पेशा (Profession) - डिस्कस थ्रोअर महिला खिलाड़ी


कमलप्रीत कौर का शुरुवाती जीवन (Kamalpreet Kaur Early Life )


कमलप्रीत कौर का जन्म 4 मार्च 1996 में पंजाब राज्य के श्री मुक्तसर साहिब जिला के एक छोटे से गांव बादल में हुआ था। इनके पिता एक किसान हैं। पढ़ाई में ज्यादा अच्छी ना होने के कारण कमलप्रीत को अपनी पढ़ाई के जरिये लगने वाली नौकरी पर ज्यादा भरोसा नहीं था। क्योंकि उनके 10वीं ओर 12वीं कक्षा में पास होने लायक ही अंक आये थे।

कमलप्रीत का कद अच्छा होने के कारण उन्होंने पहली बार खेल प्रतियोगिता में भाग लिया जहां पर उन्होंने काफी बढ़िया प्रदर्शन किया तब उनके खेल प्रदर्शन को देखते हुए लोगो ने उन्हें खेलो में अपनी किस्मत आजमाने के लिए कहा। कमलप्रीत गांव की निवासी हैं इसलिए वह कहतीं है कि वह पढ़ाई में अच्छा नही कर पाती तो उनकी जल्दी ही शादी कर दी जाती इसलिए शादी से बचने के लिए वह खेलों में अपनी किस्मत आजमाने लगीं।


कमलप्रीत कौर का करियर (Kamalpreet kaur career)


कमलप्रीत शुरुआत से एक डिस्कस थ्रोअर खिलाडी नहीं थी लेकिन वह गांव बादल में भारतीय खेल प्राधिकरण केंद्र (Sports Authority of India Centre) में शामिल हो गयी। कोच प्रीथपाल मारू से मिली जो की खुद डिस्कस थ्रोअर खिलाडी थी और यही से इनको एक डिस्कस थ्रोअर खिलाडी बनने का जूनून पैदा हुआ।


बैंगलोर में जूनियर नेशनल प्रतियोगिता में साल 2013 में कमलप्रीत ने बेहतरीन प्रदर्शन किया और यहीं से उनकी ज़िंदगी का टर्निंग पॉइंट शुरू हुआ यहाँ पर उन्होंने अपने शानदार प्रदर्शन से कांस्य पदक जीता।


इसके बाद रांची में हुयी अंडर -20 की प्रतियोगिता में नया रिकॉर्ड बनाया। साल 2017 में इन्होने अखिल भारतीय अंतर-विश्वविद्यालय की प्रतियोगिता में पुराने सारे रिकार्ड्स को तोड़कर नए रिकॉर्ड स्थापित किये।


कमलप्रीत के राष्ट्रीय स्तर पर कांस्य पदक जीतने के बाद पंजाब सरकार ने कमलप्रीत को 10000 रूपये और साल 2017 में रेलवे में क्लर्क की नौकरी प्रदान की जिसमे इनकी तनख्वाह 21000 रूपये थी और इस नौकरी की वजह से इनकी आगे की राह आसान हो गयी।

2019 फेडरेशन कप सीनियर एथलेटिक्स चैम्पियनशिप में भाग लिया और 60.25 मीटर के थ्रो के साथ इन्होने स्वर्ण पदक जीता इसके अलावा इन्होने 24वें फेडरेशन कप सीनियर एथलेटिक्स चैंपियनशिप में हिस्सा लिया और 65 मीटर का लम्बा थ्रो के साथ एक राष्ट्रीय रिकॉर्ड बनाया और 65 मीटर का लम्बा थ्रो फेकने वाली ये पहली भारतीय खिलाडी बनी।


कमलप्रीत कौर का टोक्यो ओलिंपिक में प्रदर्शन ( Tokyo Olympics 2021)


डिस्कस थ्रोअर खिलाड़ी कमलप्रीत कौर ने टोक्यो ओलिंपिक ( Tokyo Olympics ) में भाग लिया और अपने बेहतरीन प्रदर्शन के दम पर महिला डिस्कस थ्रो फाइनल में  63.5 मीटर के थ्रो के साथ अपनी जगह पक्की की। इसके साथ ही इन्होने भारत के लिए पदक जीतने की उम्मीद को कायम रखा है।


➡ लवलीना बोरगोहेन का जीवन परिचय



Post a Comment

0 Comments