अपनी Value बढ़ाने के 5 बेस्ट टिप्स - How to increase your value in hindi

अपनी वैल्यू कैसे बढ़ाएं Value बढ़ाने के 5 बेस्ट टिप्स - How to increase your value in hindi


अपनी वैल्यू कैसे बढ़ाएं Value बढ़ाने के 5 बेस्ट टिप्स - How to increase your value in hindi

5 tips to increase your value in hindi


5 Best tips to increase your value in hindi


खुद की वैल्यू बढ़ाने का असल मतलब क्या होता है? और हम अपनी वैल्यू कैसे बढ़ा सकते हैं?


सबसे पहले यह समझो कि अपनी वैल्यू बढ़ाने का मतलब अपनी नेटवर्थ, अपना पैसा बढ़ाना नहीं होता इस सोच को अभी साइड में रख दो क्योंकि वह हाई वैल्यू होने का एक बाय प्रोडक्ट होता है ना कि उसका असल कारण होता है। आप यह सोचो कि आप अपनी जिंदगी में किन चीजों की वैल्यू दूसरी चीजों से ज्यादा मानते हो। हो सकता है वह आपके लिए बहुत ज्यादा मूल्यवान हो या आपके उसके साथ इमोशंस जुड़े हो वह चीज आपको अच्छा फील कराती हो या उसके होने से आपकी लाइफ आसान बन गई हो अब यही सब चीजें हमें अपने अंदर देखनी है यानी खुद की वैल्यू को बढ़ाने के लिए आपको दूसरों के लिए वैल्युएबल और इरिप्लेसेबल बनना होगा और किसके लिए फाइव स्टेप्स है।


1. उच्च नैतिक मूल्य (High moral values)


कोई भी इंसान तब तक हाई वैल्यू नहीं कहलाता जब तक उसमें अच्छे मैनर्स और वेल्यूस नहीं होती। अगर एक इंसान अमीर होने के बावजूद भी रेस्टोरेंट में वेटर से बदतमीजी से बात करता है, लोगों का मजाक उड़ाता है, अपने दिल में अपनी फैमिली के लिए कड़वाहट रखता है या फिर झूठ बोलता है तो ऐसा इंसान इतना पैसा होने के बावजूद भी दूसरे लोगों की नजरों में एक लूजर ही होता है। इसीलिए यह सब ना करके आपको हाई मोरल वैल्यूस रखना चाहिए यह आपको अट्रैक्टिव बनाती है।


इसलिए अपने जीवन के लिए कुछ रूल्स बनाओ जैसे आप कभी झूठ नहीं बोलोगे, लोगों को प्यार और रिस्पेक्ट दोगे और बुरे से बुरे इंसान में भी अच्छाई ढूंढने की आदत डालोगे और अपने आप में हमेशा हम्बल रहोगे।


2. अनुशासन (डिसिप्लिन)


आजकल हमारी सोसाइटी में लोग खुद के गुलाम हैं वह वही करते हैं जो उनका मन करता है। वहीं एक ऐसा इंसान जो अपने मन का नौकर बनने के बजाय अपने मन को कंट्रोल करता है और उसके लिए अपने जीवन के कुछ रूल्स होते हैं। ऐसा इंसान दूसरों से ज्यादा वैल्युएबल होता है इंसान होने का यही फायदा है कि हम अपनी बुरी आदतों से बाहर निकलकर अपनी इच्छाओं को अपने वश में कर सकते हैं। हाई स्टैंडर्ड होने की वजह से आपको पता है कि आपको किन चीजों में इंवॉल्व करना है और किन में नहीं। डिसिप्लिन आपके व्यक्तित्व को प्रभावी बनाता है उदाहरण के लिए जैसे आपने डिसाइड कर लिया है कि आप कोई ऐसा फूड नहीं खाओगे जिससे आपकी हेल्थ खराब होती है तो यहां आपने अपने आप में हाई स्टैंडर्ड तय कर लिया है कि आपको सिर्फ सेहतमंद खाना खाना है क्योंकि इससे नीचे खाना खाने में आपका नुकसान होगा।


इसी तरह आपको एक पाटनर ढूंढते वक्त आपको किसी ऐसे इंसान के साथ सेटल नहीं करना जिसकी सोच आपसे नीचे है। या जो आपके साथ पोटेंशियल नहीं करता और आप अगर अपनी लाइफ में सक्सेसफुल बनना चाहते हैं लेकिन आपको लोग पढ़ते समय या काम करते वक्त distract करते हैं पार्टी या खेलने के लिए कहते हैं तो उस छोटी सी थोड़ी देर के लिए की खुशी को अपने बड़े सपने को पूरा करने के लिए हटा देना ही डिसिप्लिन है। discipline sacrifice for high standard यह तीनों एक ही चीज है सही सैक्रिफाइस करने से आप डिसिप्लिन बनते हो और डिसिप्लिन होने से आप हाई स्टैंडर्ड बनते हो और जब आपके स्टैंडर्ड हाई होते हैं तो वह दूसरों की नजरों में आपको ज्यादा वैल्युएबल बनाते हैं।


3.) विकल्प होना


आप की इच्छा चाहे डेटिंग पार्टनर की हो या अलग-अलग अपॉर्चुनिटी की बहुत सी चीजों को ना बोल पाने की एबिलिटी आपको हाई वैल्युएबल बनाती है। एक इंसान जिसके पास कोई ऑप्शन ही नहीं होते वह कभी भी ना बोलना afford ही नहीं कर पाता क्योंकि ऐसा करके तो उसे फिर कुछ भी नहीं मिलेगा उदाहरण के लिए अगर आपने खुद पर मेहनत करना शुरू कर दी है और आप बहुत सी फीमेल के लिए अट्रैक्टिव बन चुके हो फिर ऐसे में आपके पास इतनी चॉइस होती है तो आप इतने सारे लोगों में से सिर्फ बेस्ट इंसान को ही अपना पार्टनर बना पाओ लेकिन इस तरह के ऑप्शन उन लोगों के पास नहीं होते जो खुद पर काम करना नहीं जानते हमेशा शिकायत करते रहते हैं इसीलिए शुरुआत से ही केयरफुल रहो अपने आप को वैल्युएबल बनाओ ताकि आप हाई क्वालिटी के लोगों के साथ टाइम स्पेंड करना afford कर सको


4.) आपके अंदर एक अच्छी skill होना चाहिए


यह एक ऐसी स्किल होती है जो आपके और आपके आसपास के लोगों में वैल्यू ऐड करती है जब भी हम स्किल्स के बारे में बात करते हैं तो हमारे दिमाग में वह सब आता है जिसके कारण हम पैसे कमा सकते हैं। लेकिन असल में किसी व्यक्ति की स्किल को समाज में हुए योगदान से मापी जाती है, जिसकी वजह से वह एक अच्छा पड़ोसी, एक बुद्धिमान टीचर होना, एक अच्छा कर्मचारी होना या अच्छा बाप और मां होना भी बन पाता है। यह अच्छी स्किल्स है जो ऐसे बच्चों को बनाते हैं जो आगे चलकर दुनिया में महान काम करते हैं।


इसीलिए स्किल्स को सिर्फ पैसों के लिए नहीं बल्कि एक इंसान की मानसिकता में देखो हम हमेशा फेम और पैसो के पीछे भागते हैं जिस वजह से हम अपना बैलेंस खो देते हैं और एक तरफा बन जाते हैं याद रखो हमेशा पेड़ पर उगने वाले फल की तारीफ होती है ना की जड़ों की लेकिन अगर जड़े ही कमजोर हो तो फिर फल उगना तो दूर वह पेड़ बहुत ज्यादा समय सीधा भी नहीं खड़ा रह पाएगा।


इसलिए आपकी सोसाइटी में जितने भी रोल हैं स्टूडेंट, एंप्लोई या एंटरप्रेन्योर से लेकर भाई - बहन, मां - बाप, या रिश्तेदार तक अपने हर रोल को अच्छे से निभाओ और सब के अंदर एक मजबूत इंसान बनने की क्षमता को बाहर लाओ यही असली मतलब होता है क्षमतावान बनने का।


5.) एक प्यार करने वाले योद्धा बनें


जितने भी लोगों ने मुझे एक बेहतर इंसान बनने में मदद करी है उन लोगों में एक बात काफी कॉमन है  वह काफी संपूर्ण और संतुलित हैं  जितनी ताकत उन में पूरी दुनिया से लड़ने और अपने सच को बिना डरे बोलने की है उतनी ही ताकत उनमें सॉफ्ट होने और अपने अच्छे व्यवहार को दिखाने की है। यह चीज आपको भी खुद में और अपने आइडियल में देखनी चाहिए कि जिन लोगों को आप फॉलो करते हो और उन लोगों की वजह से जो आप बनते हो या अपनी मानसिकता रखते हो क्या उसमें बैलेंस है? क्या आप हमेशा लोगों से दबते रहते हो या आप हमेशा लोगों को दबाते रहते हो अनबैलेंसड इंसान तब तक अपने कैरेक्टर की कमी नहीं समझते जब तक उनके साथ कोई दुखद घटना नहीं हो जाती और उससे उन्हें जरूरी सबक नहीं मिल जाता। इसलिए ऐसे इंसान बनो कि आपको लोगों में प्यार बांटना भी आता हो और जब जंग के मैदान में हो तब आपको अपनी तलवार का इस्तेमाल करना भी आता हो।


Post a Comment

0 Comments