सेल्फ हेल्प कैसे करें - self help in hindi

सेल्फ हेल्प किस तरह से कर सकते हैं - Self help in hindi


सेल्फ हेल्प कैसे करें - self help in hindi


आत्मविश्वास


खुद को पसंद करेंगे तो बड़े लक्ष्य बनाएंगे और हासिल करेंगे

आप खुद को जितना ज्यादा पसंद करेंगे किसी भी काम में आपका प्रदर्शन उतना ही ज्यादा अच्छा होगा, “लो ऑफ रिवर्सिबिलिटी” की माने तो आप जितना ज्यादा बेहतर प्रदर्शन करेंगे उतना ही खुद को पसंद करेंगे। आपका अपने प्रति सम्मान आपके व्यक्तित्व का प्रमुख हिस्सा है। खुद को जितना ज्यादा पसंद करेंगे खुद के लिए उतना ही बड़े लक्ष्य निर्धारित करेंगे और उन्हें हासिल करने के लिए ज्यादा प्रयास करेंगे।

यह भी पढें➡ Motivational quotes in hindi on success for students

प्रेरणा


प्रशंसा और आलोचना करे लेकिन लोगों की नहीं उनके काम की

यदि आप लोगों के काम की प्रशंसा करते हैं तो आप उन्हें ज्यादा काम के लिए प्रेरित करते हैं लेकिन यदि आप लोगों की हर कोशिश पर उनकी आलोचना करते हैं तो वह कोशिश करना छोड़ देंगे। यदि आपको आलोचना करनी है तो कार्य की आलोचना करें। तुम खराब हो के बजाय यह कहे कि तुमने जो किया है वह खराब था। हर वक्त तारीफ करेंगे तो लोग अहंकारी बन जाएंगे। इसलिए केवल विशिष्ट कार्यों की ही प्रशंसा करें, लोगों की मेहनत और उससे मिले परिणाम की प्रशंसा करें।

व्यक्तित्व


आप जैसा देखते हैं सुनते हैं और पाते हैं वैसा ही बनते हैं और बोलते हैं

स्कॉटिश फिलॉस्फर डेविड ह्यूम की फिलॉसफी के अनुसार इंसान जब दुनिया में आता है तो उसके पास सोच के तौर पर और कुछ नहीं होता। बच्चे का दिमाग कोरी स्लेट की तरह होता है, जिस पर लोग अपनी छाप छोड़ते हैं। बड़ा होने के दौरान वह जो सीखता है या महसूस करता है, वयस्क अवस्था इन्हीं बातों का निचोड़ है। एक व्यस्क जो भी करता या बनता है वह उसके बड़े होने की प्रक्रिया का परिणाम होता है, जैसा कि अरस्तू ने लिखा है “आप जैसा देखते हैं सुनते व पाते हैं वैसे ही आप बनते हैं और बोलते हैं”

यह भी पढें➡ दार्शनिक अरस्तु के प्रसिद्ध अनमोल विचार - Aristotle quotes in hindi

व्यवहार


आप दूसरों को माफ करके खुद को भी आजाद करते हैं

दूसरों के प्रति नकारात्मक भावनाएं इसलिए आती है क्योंकि हमने माफ करने की ताकत गवा दी है। हमेशा निश्चिंत रहना चाहते हैं तो हर उस व्यक्ति को माफ करें जिसने आप को नुकसान पहुंचाया है। किसी को माफ करके आप खुद को आजाद करते हैं। कल्पना कीजिए कि आप सकारात्मक आशावादी और उल्लासित हैं और आपके आत्मविश्वास की कोई सीमा नहीं है। यह तभी संभव है जब आत्मविश्वास आदत बन जाए, माफ ना करने से नकारात्मकता, गुस्सा, तनाव और बेचैनी तो बढ़ेगी ही और अप्रसन्नता भी होगी।

अपने दिमाग को काबू ओर नियंत्रित कैसे करें - How to control your mind in hindi

➡ श्रीमद्भागवतगीता में श्रीकृष्ण ने बताये हैं निर्णय लेने के तरीके - dicision making

➡ अवचेतन मन को कैसे जगायें | How to activate subconscious mind in hindi

Post a Comment

0 Comments