पागलपन ओर ज़िद हो तो ऐसी - Pagalpan or zid

कुछ करने का पागलपन ओर ज़िद हो तो ऐसी

पागलपन ओर ज़िद
Alon musk


एक बंदे को उसकी कंपनी बेचने के बाद 1000 करोड़ मिला था उसने वह सारा पैसा अलग-अलग बिजनेस में लगा दिया और खुद किराये से रहने लगा, कोई पागल ही कर सकता है ना ऐसा.. क्योंकि कोई नॉर्मल इंसान होता तो गाड़ी बंगला खरीदने में ही बहुत सारा पैसा खर्च कर देता यह एलन मस्क है जो कि आज वर्ल्ड की कई बड़ी कंपनी का मालिक है और आज इसकी नेटवर्क है एक लाख 40 हजार करोड़ और यह सब उसके पागलपन और ज़िद के कारण ही है क्योंकि भीड़ के साथ चलना तो आसान है पर पागलपन ही चाहिए भीड़ से कुछ अलग हटकर करने के लिए भी,

पागलपन ओर ज़िद
Amitabh bachchan


जिसको कभी उसकी भारी आवाज की वजह से रेडियो से रिजेक्ट कर दिया गया था उसने जिद पकड़ी और वह मुकाम हासिल किया जिसके कई लोग सिर्फ सपने ही देखते हैं जी हां वह है अमिताभ बच्चन उनकी पहली सुपरहिट मूवी जंजीर आने से पहले उनकी 17 मूवीस फ्लॉप हो चुकी थी फिर भी उन्होंने अपनी जिद नहीं छोड़ी और आखिरकार कामयाबी को इनकी जिद के आगे झुकना पड़ा।

पागलपन ओर ज़िद
Virat kohli


विराट कोहली का भी एक ऐसा ही किस्सा है जोकि क्रिकेट का पागलपन उनकी जिद को बयां करता है 2006 की बात है विराट कर्नाटका में रणजी खेल रहे थे और पहले दिन 40 रन बनाकर वह नॉट आउट रहे शाम को उनके घर से खबर आई की उनके पापा की मृत्यु हो गई है सब ने सोचा कि अब तो विराट तुरंत घर के लिए निकलेंगे बहुत से तो यह सोचने लगे कि अब उनकी जगह पर और कौन खेलेगा पर दूसरे दिन विराट बल्ला लेकर उस पिच पर खड़े थे और इस हालात में उन्होंने सेंचुरी लगाई और टीम को जिता कर ही वह अपने पिता के अंतिम संस्कार के लिए निकले इसे पागलपन नहीं तो और क्या कहोगे लाखों में से किसी एक के पास ऐसा पागलपन ऐसी जिद होती है और वही कुछ हटके कर जाता है।

यह भी पढें➡ रतन टाटा की जीवनी - RatanTata biography in hindi

दिन के 15, 15 घंटे काम करने के लिए सिर्फ मेहनत ही नहीं वह ज़िद और पागलपन भी होना चाहिए ऐसे ज़िद और पागलपन लोग परसेंटेज में नहीं नंबर में होते हैं।

पागलपन ओर ज़िद
Dasharath manjhi


ऐसी ही ज़िद और पागलपन की कहानी है दशरथ मांझी की जो कि अपनी पत्नी को टाइम पर हॉस्पिटल नहीं पहुंचा पाए क्योंकि इनके गांव से हॉस्पिटल के बीच एक बहुत बड़ा पहाड़ था और उसी वजह से उनकी पत्नी का देहांत हो गया उन्हें गुस्सा आ गया और इसी गुस्से को उन्होंने अपनी जिद में बदल लिया और उन्होंने छैनी हथौड़े से 22 साल में 55 किलोमीटर का पहाड़ तोड़ दिया यह पागलपन नहीं तो क्या है।

ऐसी ज़िद तब पैदा होती है जब दिल टूटता है कुछ लोग तो इसमें बिखर जाते हैं लेकिन जो लोग इस दर्द को अपनी जिद में बदल लेते हैं वह निखर जाते हैं।


यह भी पढें➡ कभी रेल्वे स्टेशन पर कचरा उठाया करते थे लेकिन आज है प्रोफेशनल फोटोग्राफर |vicky roy success story in hindi

वह पागलपन है जब लोग ट्रिप्स प्लान कर रहे होते हैं और कोई बंदा अपना एंपायर खड़ा करने के लिए प्लान बना रहा होता है जब सब नौकरी के चक्कर में घूमते हैं तो कोई पागल नौकरी देने की तैयारी कर रहा होता है और ऐसे ही पागल आगे जाकर स्टीव जॉब्स और बिल गेट्स बनते हैं यह पागल सक्सेस के लिए हमेशा भूखे होते हैं कभी संतुष्ट नहीं होते यह पागलपन है ओर ज़िद ही है जो ना तो सोने देती है और ना ही रुकना देती है एक जिद्दी इंसान कभी भी शांत नहीं बैठेगा वह 1000 बार फेल होगा लेकिन एक बार और ट्राई करेगा वह तब तक ट्राई करेंगे जब तक सफलता उनके सामने घुटने ना टेक दे और यही पागल और जिद्दी इंसान इतिहास बना देते हैं यकीन नहीं आता तो इतिहास उठाकर देख लो भला कौन इंसान 1000 बार फेल होने के बाद भी कोशिश करना नहीं छोड़ता कोई पागल ही होगा ना और उनका यही पागलपन ही उन्हें एक दिन दुनिया में रोशन कर देता है जी हां यहां बात हो रही है थॉमस अल्वा एडिसन की।

 65 साल का एक व्यक्ति जिसे पहले से ही हजार बार रिजेक्ट कर दिया गया था फिर भी उसने अपनी जिद नहीं छोड़ी और KFC जैसी होटल्स कि चेन खड़ी कर दि।

जिस बंदे को अंग्रेजों ने उन्हें अपनी होटल में नहीं आने दिया उस बंदे ने जिद पकड़ी और दुनिया का सबसे बड़ा होटल ताज बना दिया।


यह भी पढें➡ हाथ नही थे पर आज हैं दुनिया की पहली लाइसेंस्ड आर्मलेस महिला पायलट | motivational success story in hindi

दोस्तों यह एक ज़िद ही है जो एक नॉर्मल इंसान को निखारती हैं और फिर यही जिद उन्हें ऐसा निखारती है कि नॉर्मल लोग इसे सोचने से भी डरते हैं इसलिए आपको जो भी अच्छा लगता है जो भी करना चाहते हो उसके लिए पागल बन जाओ उसके लिए और जान लगा दो उसे हासिल करने के लिए क्योंकि जब तक पागलपन आपके अंदर नहीं आएगा तब तक आप नॉर्मल ही रहोगे अगर आपको ऐसे ही मरना है तो नॉर्मल रहो लेकिन अगर आपको ऐसे नहीं मरना है कुछ करना है तो आपको ज़िद्दी और पागल बनना पड़ेगा।

दोस्तों अपने काम के लिए पागलपन एक ऐसी बीमारी है जो अगर किसी को लग गई तो वह उस व्यक्ति को कामयाब बना कर ही छोड़ती है क्योंकि अगर दिल में आग और अंदर एक पागलपन हो तो एक आम माली का बेटा क्रिस्टियानो रोनाल्डो बन सकता है जहां हम लोगों को अलार्म उठाता है वहां पागलपन जिद्दी लोगों को उनके सपने उठाते हैं।


पागलपन ओर ज़िद
Michael Phelps


यह है Michael Phelps 2008 में इस व्यक्ति ने पब्लिकली अनाउंस कर दिया था की ओलंपिक में आठ गोल्ड मेडल जीत लूंगा सब ने इसका बहुत मजाक बनाया यहां तक कि मीडिया ने भी इसका खूब मजाक उड़ाया लेकिन इस व्यक्ति ने इन लोगों की बातों को ही अपना मोटिवेशन बना लिया दिन के 12, 12 घंटे यह व्यक्ति प्रैक्टिस करने लगा लेकिन अचानक एक दुर्घटना में इस बंदे का हाथ फैक्चर हो गया और डॉक्टर ने इसे ओलंपिक में पार्टिसिपेट करने से ही मना कर दिया पर इस व्यक्ति का तो दिमाग हिला हुआ था इसने अगले 1 साल तक पैर से स्विमिंग करना सीखा खुद को इतना बेहतर बना लिया इतनी मुसीबतें होने के बावजूद भी ओलंपिक में वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाकर यह व्यक्ति 8 गोल्ड मेडल लेकर आ गया यह होती है जिद्द यह होता है पागलपन ऐसा पागलपन लाखों में किसी एक के पास होता है।

यह भी पढें➡ज़िद हो अगर कुछ पाने की तो क्रिस्टियानो रोनाल्डो जैसी

Ferruccio Lamborghini


दोस्तों इंसल्ट तो बहुतों की होती है पर कोई पागल ही उस इंसल्ट को अपना मोटिवेशन बना लेता है यह कहानी है ट्रैक्टर बनाने वाले बंदे की जिसने एक फेरारी कार खरीदी पर क्लच में प्रॉब्लम होने की वजह से उसने वह प्रॉब्लम सीधे फेरारी के मालिक को बतायी इस पर फेरारी के मालिक को गुस्सा आया और उसने उस बंदे की इंसल्ट कर दी पर इस बंदे ने इस इंसल्ट को इतना सीरियस ले लिया की फेरारी जैसी बड़ी कंपनी को टक्कर देने के लिए खुद की एक कार कंपनी खोली और ऐसी कारें बनाई की आज सारी दुनिया इसकी कारों की दीवानी है और वह कार कंपनी है लैंबोर्गिनी और आज लेंबोर्गिनी को कौन नहीं जानता खुद के अंदर एक पागलपन ही होना चाहिए इतनी बड़ी कंपनी से पंगा लेने के लिए।

यह भी पढें➡ नोकरी मांगने के लिए टी शर्ट पर अपना नम्बर लिखकर घूमते थे | jack dorsey motivational success story in hindi

दोस्तों सोचता तो हर कोई है कि मुझे बड़ा बनना है लेकिन उसके लिए एक्शंस कोई पागल ही लेता है दुनिया झुकती है बस बंदे में दुनिया को झुकाने का वह पागलपन होना चाहिए।

एक बंदे को 30 बार जॉब से रिजेक्ट कर दिया गया ग्रेजुएशन के एंट्रेंस एग्जाम में या 5 बार फेल हो गया यहां तक की KFC में वेटर की जॉब के लिए भी  रिजेक्ट कर दिया गया पर इसके अंदर अपने काम के लिए इतना पागलपन था कि ऐसे कई फैलियर्स को नजरअंदाज करते हुए उसने अलीबाबा कंपनी की शुरुआत की ओर यह कंपनी आज दुनिया की बड़ी e - commerce कंपनियों में शुमार है इतनी बार फेल हुआ यह आदमी आज चीन का सबसे अमीर बंदा है जी हां  यहां बात हो रही है जेक मा की।

➡ वॉल्ट डिज्नी कई बार असफल हुए कर्ज में डूबे फिर मिली सफलता - Walt Disney life story in hindi

और दोस्तों यह पागलपन बंदे के सिर्फ दिमाग में नहीं उसके हरकत और उसके कामों में भी होता है जिसे दुनिया देखती तो है पर कभी कॉपी नहीं कर पाती क्योंकि उस पागलपन को मैच करना हर किसी के बस की बात नहीं है।

दोस्तों अपने काम के लिए खुद के अंदर इतना पागलपन लाओ कि लोग तुम्हें देखकर ही मोटिवेट हो जाएं यही पागलपन आपका हर सपना पूरा कर सकता है।


यह भी पढें👇

➡ Motivational quotes in hindi on success for students

➡ Best Motivational status in hindi | प्रेरणादायक सुविचार हिंदी में

➡ संदीप माहेश्वरी के 50+ अनमोल विचार - sandeep maheshwari quotes in hindi

Post a Comment

0 Comments