खुश रहने के लिए इन पाँच बातों को ध्यान में रखें | Five ways to be happy

खुश रहने के पाँच तरीके : खुश रहने के लिए इन पाँच बातों को ध्यान में रखें | five ways to be happy


kese rahe khush/दोस्तों इस भाग दौड़ भरी ज़िन्दगी में हम अपने कामो में इतने उलझ जाते हैं कि हम खुद को समय ही नही दे पाते हैं और life को अच्छे से enjoy भी नही कर पाते हैं इस कारण भी हम खुश नही रह पाते हैं वैसे अगर देखा जाए तो खुश रहना इतना कठिन भी नही है यहाँ हम आपको पाँच बातें बताएंगे जिन्हें ध्यान में रखकर आप खुश रह सकते हैं खुश रहने के पाँच तरीके


five ways to be happy


five ways to be happy


खुश रहने का पहला तरीका


1. बीते हुए वक्त को भुलें : सबसे बड़ी problem है बीते हुए वक्त को भूलना याद रखो जब तक आप बीते हुए वक्त को नही भूलोगे तब तक खुश नही रह पाओगे। जो घटना पहले हो चुकी है उसको याद करने का कोई फायदा नही है बार बार वही याद करके आप अपना आज का समय भी खराब कर रहे हो जबकि इस समय को आप खुल कर भी जी सकते हो जैसे कही घूमने जा सकते हो या अपने दोस्तों के साथ बैठकर हँसी मज़ाक कर सकते हो इससे आपको अंदर से खुशी होगी।
इसके अलावा आप अपने स्कूल time के अच्छे दिन को भी याद कर सकते हैं। हमारा दिमाग ज्यादातर वही बातें याद रखता है जो कि किसी घटना से सम्बंधित हो इसलिए आप बुरी यादों को भुलाकर अच्छी बातों को ही याद करें। बीते हुए वक्त को भुलाने का सबसे अच्छा तरीका है आप खुद को किसी ना किसी काम मे व्यस्त रखें और जब भी थोड़ा free time मिले तो उसमें आप music सुन सकते हैं या खुली हवा में घूम सकते है प्रकृति को महसूस कर सकते है।


खुश रहने का दूसरा तरीका


2. भविष्य की चिंता ना करें : आजकाल लोग कोई काम शुरू करते नही की उसके भविष्य के बारे में पहले सोचने लगते है कि काम केसा होगा, सही होगा भी या नही ओर यही चिंता उनको होती रहती है वहीं कुछ लोग अपने बीते वक्त में हुई घटना को लेकर बैठ जाते हैं ओर कुछ भी सोचते रहते हैं भविष्य की चिंता और बीती हुई बातों को लेकर बैठे रहोगे तो खुश कैसे रहोगे भाई साहेब इस तरह तो तुम इस अनमोल समय को भी खराब कर रहे हो जो तुम्हारे पास है। भविष्य की चिंता में इतना समय खराब करने से तो अच्छा है हमे जो काम करना है वह हम start करें और उसमें अपना सौ फिसफी दें, positive सोचें, खुद पर विश्वास रखे तो कोई काम क्यो खराब होगा। हमारी सबसे बड़ी दिक्कत यही है की हम कोई काम start करते नही ओर उसके बारे में negetive पहले सोचने लगते हैं। वर्तमान में जीने की आदत डालो क्योंकि यह वक्त एक बार चला गया तो लौट कर नही आएगा, इसलिए जो आपको करना है वह करें, खुल कर जीयें, फालतू की चिंता में अपना समय क्यों खराब कर रहें हैं।

खुश रहने का तीसरा तरीका

3. वर्तमान में जीयें : आप कोशिश करें अपने आज को कल से बेहतर बनाने की हमेशा जब भी आप सुबह उठें तो यह जरूर सोचें कि कल जो हुआ वो हुआ और भविष्य में जो होगा वो तो होगा ही, लेकिन आज का दिन तो मेरे पास है इसको तो में बेहतर बना ही सकता हूँ जो मेने सोचा है उसको में पूरी खुशी से ओर बेहतरीन तरीके से करूँगा क्योंकि अगर आप अपने वर्तमान पर ध्यान दे रहे हैं तो निश्चित ही आपका भविष्य भी बेहतर ही होगा आपको भविष्य के चिंता की भी जरूरत नही है। वर्तमान समय का सही use करें अगर आप अपना वर्तमान समय का काम पूरा कर लेते हैं तो इससे भी आपको खुशी होगी की जो सोंचा था उसको आज ही पूरा कर लिया।
आप अपने वर्तमान समय का सही use करें, हमेशा खुलकर जीएं , क्योंकि यह वक्त है एक बार गया तो वापस लौट कर नही आएगा इसलिए हमेशा खुश रहे ओर अगर आप अपना काम समय पर कर रहें है तो इससे भी आपको खुशी मिलेगी।

खुश रहने का चौथा तरीका

4. खुद की तुलना दूसरों से करना बंद करें :  एक बात याद रखना कोई भी इंसान हर काम मे बेहतर नही होता जिस व्यक्ति का interest जिस काम मे होता है वह उसी काम मे बेहतर होता है तो फिर आप क्यों किसी से अपनी तुलना करते हैं। अगर वो किसी काम मे perfect है तो आप भी किसी काम मे perfect हैं बस जरूरत है तो उस काम को पहचानने की स्वामी विवेकानंद जी कहते हैं - " व्यक्ति को जितनी ताकत और शक्ति की जरूरत है वह उसके अंदर ही है।"  खुद को पहचानो बेहतर व्यक्ति जो भी हो लेकिन आप भी किसी से कम नही आप खुद अपने आप मे अद्भुत हैं अपनी क्षमताओं को बढ़ाओ ओर कार्य करने की लगन और ज़ज्बे को ज़िंदा रखो अपने दिमाग मे यह बैठा लो कि में खुद भी अपने आप मे एक बेहतर व्यक्ति हूँ ओर दुखी होने से अच्छा अपनी मंजिल को पाने के लिए कार्य करते रहिए क्योंकि जब तक आप खुद की तुलना किसी दूसरे से करेंगे तो आप दुखी ही रहेंगे।

खुश रहने का पाँचवा तरीका

5. अपने काम को टालना बंद करें : कोई भी काम हो अक्सर लोग यही सोचते हैं कि अभी बोहोत time है कर लेंगे, बाद में हो जाएगा लेकिन यही सोचते सोचते time निकल जाता है और वह काम अच्छे से नही हो पाता। जो भी काम करना है उसको उसी time कर लो क्योंकि अगर उस काम को टालोगे तो उसकी चिंता होते रहेगी कि मुझे तो अभी यह काम भी करना है और जब यह चिंता रहेगी तो आप खुश कैसे रह पाओगे जैसे अगर आपको कोई काम करना है और आप उसको टाल देते है कि बाद में कर लेंगे और उस समय कही घूमने चले जाते हो तो आप को वही चिंता होती रहेगी कि मुझे अभी तो घर जाकर अपना काम भी करना है और दिमाग मे वही बात चलती रहेगी तो आप जहां घूमने गए हैं वहाँ enjoy कैसे कर पाएंगे इससे तो अच्छा है कि जो काम करना था उसको पूरा उसी time करके ही कहीं जाएं। जब भी आप किसी काम को टालते हो तो फिर धीरे धीरे यह आपकी आदत बन जाती जबकि यह सही नही है अगर थोड़ा भी समय आपके पास है उसको खराब मत करो उसी काम मे लग जाओ काम को टालोगे ओर time पर काम अच्छे से नही पाया तो आपको भी अच्छा नही लगेगा इससे अच्छा है कि खाली समय मे वक्त बर्बाद ना करके उसी काम काम को करें और उसमें अपना सौ फीसदी दें।

कुछ छोटी छोटी बातें जिन्हें ध्यान में रखकर आप खुश रह सकतें हैं।

1. बीते हुए वक्त को भूलें
2. वर्तमान में जीयें
3. भविष्य की चिंता ना करें
4. अपने काम को टालना बन्द करें
5. खुद की तुलना दूसरों से ना करें
6. अपने आप पर भरोसा रखो
7. कुछ समय खुली हवा में टहलें प्रकृति को महसूस करें
8. परिवार के साथ समय बिताएं हंसी मजाक करें
9. हो सके तो सुबह व्यायाम करें
10. किसी गरीब व्यक्ति की सहायता से भी आंतरिक खुशी मिलती है